एमपिन कैसे बनाया जाता है? एमपिन मोबाइल बैंकिंग में कैसे काम करता है? MPIN kaise banaye, 4 अंक MPIN क्या है? mpin kya hai hindi

दोस्तों, आज का जमाना ऑनलाइन का जमाना है। अब पेमेंट भी घर बैठे सीधे मोबाइल से हो रहा है। ऐसे में mpin kya hai hindi में हर कोई जानना चाहता है। MPIN क्या होता है? आजकल यह शब्द गूगल पर खूब सर्च होता है। ऐसा इसलिए क्योंकि आजकल डिजिटलाइजेशन के जमाने में जो भी मोबाइल से ऑनलाइन ट्रांजिक्शन करता है, उसका पाला इस शब्द से पड़ता है। यानी वह mpin के जरिए ही यह करता है। MPIN यानी Mobile Banking Personal Identification Number। आपके मोबाइल ट्रांजिक्शन के दौरान इस नंबर की जरूरत पड़ती है। तो चलिए आज इस आर्टिकल में हम इस बारे में विस्तार से बात करेंगे।

हम बात करेंगे कि आखिर mpin kya hai hindi में, एमपिन कैसे बनाया जाता है? एमपिन मोबाइल बैंकिंग में कैसे काम करता है? MPIN kaise banaye, 4 अंक MPIN क्या है? इस तरह का हर वो सवाल जो भी आपके मन में है, हम यहां उसका जवाब देने की कोशिश करेंगे। जैसा कि MPIN के फुलफॉर्म ( Mobile Banking Personal Identification Number) से ही साफ है कि यह एक ऐसा पिन है जो मोबाइल से होने वाले बैंकिंग से जुड़ा है।

आसान शब्दों में हम कहें तो जिस तरह से एटीएम का पिन होता है, वैसे ही यह मोबाइल का पिन है। इसी पिन का इस्तेमाल कर मोबाइल के जरिए सुरक्षित तरीके से आप किसी भी चीज के लिए ऑनलाइन पेमेंट करते हैं। इस पिन के कारण ही आपका मोबाइल बैंकिंग सुरक्षित रहता है। जैसे आपका एटीएम पिन आपके एटीएम के लिए सबसे सुरक्षित चीज है। अगर आपके एटीएम का पिन किसी को मिल जाए तो फिर आपका पूरा अकाउंट साफ हो सकता है। तो चलिए देर नहीं करते हैं बल्कि शुरू करते हैं और सबसे पहले बताते हैं कि आखिर mpin kya hai hindi में।

MPIN क्या होता है हिंदी में | mpin kya hai hindi

दोस्तों, मोबाइल बैंकिंग के लिए mpin एक सिक्योरिटी पिन है। यह ज्यादातर बैंकों में 4 अंक का होता है और कुछ बैंकों में छह अंक का होता है। आपका खाता जिस बैंक में होता है, वहां से पहले आपको मोबाइल बैंकिंग प्राप्त करनी होती है। आजकल यह सुविधा लगभग सभी बैंक दे रहे हैं। जैसे ही यह सुविधा मिलेगी उसी समय आपका mpin जनरेट किया जाएगा। इसी पिन के जरिए ही आप पेमेंट करेंगे।

जिस तरह से एटीएम आने के बाद उसका एक चार अंकों का पिन होता है और आप जब भी एटीएम में जाते हैं तो बिना उस पिन के पैसे नहीं निकाल सकते हैं। यह सुरक्षा के लिहाज से भी जरूरी है। वरना कोई भी आपका एटीएम पा जाएगा और जाकर उससे आपका पैसा निकाल लेगा। इसी तरह से आपके मोबाइल में जो बैंकिंग सेवा मिली है, उसके जरिए आप कोई ट्रांजिक्शन या पैसे का लेन देन कर रहे हैं तो फिर आपको यह पिन याद रखना अनिवार्य है। यह पिन आपके मोबाइल बैंकिंग को सुरक्षा प्रदान करता है। वरना, कोई भी आपका मोबाइल पा जाए और इसका बेजा इस्तेमाल कर सकता है।

उदाहरण के लिए जैसे आप पेटीएम या गूगल पे से पैसे भेजते हैं तो आपने देखा होगा कि एक पिन डालना पड़ता है। चार अंकों या छह अंकों का यह पिन होता है तो यह सिक्योरिटी पिन mpin ही है। इसी तरह से अगर किसी बैंक की मोबाइल बैंकिंग सेवा आपके पास है और आप उसके जरिए कोई खरीददारी या लेनदेन कर रहे हैं तो जब तक आप यह पिन नहीं डालेंगे आपका ट्रांजैक्शन पूरा नहीं होगा। यानी आप अपनी खरीददारी नहीं कर पाएंगे। mpin kya hai hindi में इसलिए भी सर्च होता है क्योंकि आजकल हर हाथ में मोबाइल है और सभी बैंक ये सेवा दे रहे हैं।

एक तरह से यह सिक्योरिटी दी जा रही है उपभोक्ताओं को ताकि वह किसी भी तरह के साइबर क्राइम का शिकार ना हों। आजकल आप देख ही रहे हैं कि ऑनलाइन ट्रांजैक्शन के नाम पर कितना धोखाधड़ी हो रहा है। ऐसे में mpin बहुत ही जरूरी हो जाता है। इसे याद रखना आपकी जिम्मेदारी है और यह भी जिम्मेदारी है कि यह किसी और के साथ शेयर ना हो।

एक सेकेंड के लिए यहां रुकिए

(दोस्तों, आपके सहयोग से ही हम आगे बढ़ेंगे। अगर आर्टिकल पसंद आए तो शेयर जरूर करें। गूगल पर kyahotahai.com सर्च करके एक बार जरूर पढ़ें। आप सर्च करके आएंगे तो हमे फायदा होगा। आपको यहां हर तरह की इंफॉर्मेशन वाली जानकारी मिलेगी। इसके अलावा सेक्स एजुकेशन, सच्ची कहानियां और शायरी भी मिलेंगे। तो आते रहिए प्यार लूटाते रहिए। लव यू)

एमपिन कैसे बनाया जाता है | MPIN kaise banaye hindi

MPIN बनाना आसान है। इसके दो तरीके हैं। पहला तो यह है कि आप अपने बैंक से मोबाइल बैंकिंग शुरू करवाएं। ऐसा करने पर आपके बैंक की तरफ से ही आपको user id और MPIN दिया जाएगा। इससे यह होगा कि जैसे ही आप अपना मोबाइल में इस बैंकिंग सेवा को शुरू करेंगे और यूजर आईडी और एमपिन डालेंगे आप अपने ट्रांजिक्शन के लिए रेडी हो जाएंगे। आपको ओटीपी बताना होगा। जो कि रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर आएगा।

दूसरा तरीका यह है कि आप UPI, bhim app या USSD का इस्तेमाल कर अपना MPIN खुद जनरेट कर सकते हैं। जैसे गूगल पे या पेटीएम के लिए आप 4 अंकों का पिन बनाते हैं और हर ट्रांजिक्शन पर आपको पहले यह पिन डालना होता है और तब जाकर आपके खाते से पैसा कटता है। mpin kya hai hindi में नीचे जानिए कि USSD द्वारा एमपिन कैसे बनाएं।

USSD द्वारा एमपिन कैसे बनाएं हिंदी में

चलिए आपको यह बता देते हैं कि USSD द्वारा एमपिन कैसे बना सकते हैं। इसके लिए नीचे दिए गए स्टेप्स को फॉलो कीजिए।

  • अपने मोबाइल नंबर पर *99 # डायल करें।
  • USSD सेवा शुरू होने पर बैंक को इससे लिंक करें।
  • यह तभी होगा जब आप अपने बैंक के IFSC कोड के शुरू के 4 डिजिट और बैंक के नाम के तीन अक्षर टाइप करके भेजना है।
  • अब नया मेनू जो मोबाइल पर आया है वहां पर 7लिखकर भेजना है।
  • अब आपको विकल्प दिया जाएगा जिसमें आपको 1नंबर चूज करके भेजना है।
  • अब आपको अपनी सुविधा के अनुसार एमपिन बनाने के लिए कहा जाएगा।
  • अब अपने एमपिन को लिखिए और सबमिट कर दीजिए।
  • अब आप पुरान एमपिन को सबमिट कीजिए और नया एमपिन बना लीजिए।
  • इसे एक बार कंफर्म करना होगा। जैसे ही कंफर्म करेंगें यह एमपिन आपके लिए सुरक्षित हो जाएगा।

4 अंक MPIN क्या है?

4 अंक MPIN एक गोपनीय कोड है जिसके जरिए आप अपनी मोबाइल बैंकिंग से हर तरह के वित्तीय लेनदेन यानी ऑनलाइन पेमेंट करते हैं। जिस तरह से एटीएम का चार अंकों का पिन होता है, उसी तरह से मोबाइल से ऑनलाइन पेमेंट के लिए 4 अंकों को MPIN होता है। मोबाइल से किसी भी तरह का ट्रांजेक्शन आपको करना होगा तो आपको यह पिन डालना अनिवार्य है।

इस चार अंकों के पिन को आप खुद भी जेनरेट कर सकते हैं। इसके लिए मोबाइल में भीम ऐप या फिर यूपीआई का इस्तेमाल करना होता हैा। इसके बाद आप गूगल पे या पेटीएम या किसी अन्य माध्यम से अपने बैंक खाते को जोड़ दें। अब जब भी आप मोबाइल के जरिए कोई पेमेंट करेंगे तुरंत आपको यह पिन डालना होगा। बिना यह पिन डाले आपका पेमेंट पूर्ण नहीं होगा।

इसे भी पढ़ें मजा आएगा

सेक्स एजुकेशन से जुड़ी हर स्टोरी

लड़के लड़कियों की हर तरह की शायरी

पीएम मोदी की सभी सरकारी योजना की जानकारी

यह सुविधा उपभोक्ताओं के लिए बेहद फायदेमंद है। इसलिए क्योंकि यह आपको एक सिक्योरिटी प्रदान करता है कि आप बेहिचक बिना किसी डर के अपनी मोबाइल बैंकिंग सेवा का इस्तेमाल करें। सोचिए अगर यह पिन नहीं होता तब तो कोई भी आपका मोबाइल लेकर इसे एक्सेस कर लेता और आपका एकाउंट मिनटों में साफ हो जाता।

यह इसलिए भी जरूरी है क्योंकि अगर आपका मोबाइल खो भी गया तो कोई भी आपके यूपीआई से ट्रांजिक्शन तब तक नहीं कर पाएगा जब तक उसे यह पिन मालूम ना हो। क्योंकि जैसे ही वह पेमेंट करने जाएगा तुरंत यह पिन मांगा जाएगा और वहीं पर वह इंंसान फंस जाएगा जिसने आपकी मोबाइल चोरी की है। तो यहां आप पूरी तरह से सुरक्षित हैं।

(दोस्तों, उम्मीद है कि MPIN क्या होता है हिंदी में? इसे कैसे प्राप्त करें इसकी पूरी जानकारी आपको मिल गई है। अगर इससे जुड़ी या किसी भी तरह के टॉपिक पर आप कुछ पढ़ना चाहते हैं तो फिर नीचे कमेंट करें। हम कोशिश करेंगे कि आपके हर पसंद के टॉपिक पर आर्टिकल लिखें। अगर आप भी कुछ लिखते हैं तो हमें भेजिए हम आपके नाम के साथ छापेंगे। हमारी मेल आईडी है- [email protected])

Leave a Reply

Your email address will not be published.