Spread the love

Khesari Lal Yadav भोजपुरी के ऐसे सुपरस्टार हैं जिनकी फिल्मों का इंतजार दर्शकों को बेताबी से रहता है। उनके गाने हमेशा ही ट्रेंडिंग में रहते हैं और किसी न किसी रूप में वह चर्चा में जरूर रहते हैं। खेसारी लाल यादव के बिना भोजपुरी इंडस्ट्री एक तरह से अधूरी है। आज इंडस्ट्री के अगर सबसे सफल अभिनेताओं की बात करेंगे तो उसमें Khesari Lal Yadav का नाम प्रमुखता से आएगा। पर, इस मुकाम तक पहुंचने के लिए उन्हें बहुत मेहनत करनी पड़ी है।

khesari lal birthday


आज खेसारी लाल यादव का जन्मदिन है। आइए इस खास मौके पर नजर डालते हैं उन खास बातों पर जिन कारण आज खेसारी इस मुकाम पर हैं।

लगन और मेहनत से कभी समझौता नहीं


खेसारी लाल यादव कभी भी शार्टकट में विश्वास नहीं करते हैं। वह हमेशा ही मेहनत को तवज्जो देते हैं। दिन रात एक करके काम करते हैं। कोई फिल्म साइन कर लेते हैं तो फिर उसमें डूब जाते हैं। कोई गाना करना होता है तो यह नहीं देखते कि कितने घंटों से उसके लिए शूट कर रहे हैं।

कभी हार नहीं मानने का जज्बा


खेसारी लाल यादव आज भोजपुरी में सबसे टॉप पर हैं तो इसलिए क्योंकि वह कभी भी हार नहीं मानते हैं। परिस्थिति चाहें जैसी हो, उन्हें जिद है कि मुझे सफल होना है। उनमें जज्बा है कि मुझे आगे जाना है और इसी जज्बे से वे आगे बढ़ते हैं।

काम के प्रति जुनून और ईमानदारी


खेसारी लाल यादव के साथ काम कर चुके दिग्गज निर्देशक पराग पाटिल के मुताबिक जितना जुनून और ईमानदारी काम के प्रति खेसारी लाल यादव में है, उतना किसी और में नहीं है। भोजपुरी के इकलौते ऐसे सुपरस्टार हैं खेसारी जो पूरे जुनून और ईमानदारी से काम करते हैं।

हर किसी का सम्मान और तवज्जो देना


खेसारी अपने फैंस और साथ काम करने वाले लोगों के चहेते हैं। यह इसलिए भी है क्योंकि वह खुद भी सबको सम्मान देते हैं। यही वजह है कि सोशल मीडिया पर जैसी फैन फॉलोइंग खेसारी के पास है वैसी किसी और के पास नहीं है।


काम को ही अपना सबकुछ मानना


कहते हैं कर्म ही पूजा है। इसका सबसे बड़ा उदाहरण खेसारी हैं। वह कर्म को पूजा मानते हैं। यही वजह है कि कभी लिट्टी चोखा बेचने वाला आम आदमी आज इतना बड़ा सुपरस्टार बन चुका है। कर्म को पूजा माना और दिल से जुट गया तो फिर सफल तो होना ही था।

मां-पिता को ईश्वर मानना


खेसारी अपने माता-पिता को इतना प्यार और सम्मान देते हैं कि उनके आशीर्वाद के कारण भी वह इस मुकाम पर हैं। आज के समय में जबकि लोग अपने माता-पिता को भूलते जा रहे हैं, खेसारी जैसे बच्चे हैं जो यह अनुभव कराते हैं कि मां-बाप से बड़ा भगवान कोई नहीं है। यही वजह है कि अपने हर काम को खेसारी इन्हीं को समर्पित करते हैं।

हमेशा कुछ नया सीखने की चाहत


खेसारी हमेशा ही कुछ नया करते हैं। कुछ बेहतर करते हैं। प्रयोग करते हैं। कहानियों में, गाने में हमेशा ही अपने निर्माताओं से बात कर जरूरी बदलाव के लिए तैयार रहते हैं। दूसरी इंडस्ट्री में क्या बेहतर हो रहा है उसे भोजपुरी में कैसे अपना सकते हैं, हमेशा इसके लिए तैयार रहते हैं।

चैलेंजिंग रोल के लिए तैयार रहना


खेसारी ने अपने अब तक के करियर में सबसे अधिक चैलेंजिंग रोल की है। यह इसलिए कि वह खुद में भरोसा जताते हैं कि वह जितना ही चुनौतीपूर्ण किरदार करेंगे उतना ही वह बेहतर होंगे। बापजी जैसी फिल्मे इसका उदाहरण हैं। लिट्टी चोखा, आशिकी, संग्राम जैसी फिल्में इसका सबसे अच्छा उदाहरण हैं।

गानों में हमेशा नंबर वन पर ट्रेंड करना


भोजपुरी इंडस्ट्री में अगर गानों की बात की जाए तो खेसारी से सब पीछे हैं। खेसारी के लगातार गाने ट्रेंड करते हैं। इसके पीछे वजह है कि उनकी टीम किसी भी खास मौके पर बहुत पहले ही गाना मार्केट में उतार देती है और बाजी मार लेती है। जैसे होली आने वाला हो तो बहुत पहले से खेसारी के गाने मार्केट में आ जाते हैं और छा जाते हैं।

खुद पर विश्वास करना


सबसे अंतिम बात है खुद पर विश्वास होना। अतिआत्मविश्वास नहीं लेकिन आत्मविश्वास जरूरी है। खेसारी को खुद पर विश्वास है। कभी जब इंडस्ट्री के ज्यादातर लोग खेसारी के खिलाफ हो गए थे तब भी खेसारी को विश्वास था कि वह आगे ही बढ़ेंगे और वह आगे ही बढ़े और आज भी उनके पास फिल्मों की लाइन है।


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.