Spread the love

दोस्तों, आज हम सभी के पसंदीदा टॉपिक IPL के बारे में हम विस्तार से बताने आए हैं। जी हां, दोस्तों, IPL तो हम सब देखते हैं लेकिन क्या उसके इतिहास से भी रूबरू हैं। आखिर किसने आईपीएल की शुरुआत की। पहला मैच कब हुआ। अब तक का सर्वाधिक विजेता कौन है, ऐसे बहुत सारे सवाल हैं जिनके जवाब आप चाहते हैं तो चलिए शुरू करते हैं आज का यह आर्टिकल।

क्या है IPL?
तो दोस्तों, आईपीएल यानी इंडियन प्रीमियर लीग। यह बीसीसीआई द्वारा प्रायोजित एक टी 20 लीग है, जो हर वर्ष खेला जाता है। अमूमन यह टूर्नामेंट अप्रैल से मई के महीने में होता है। इस लीग में भारत के अलावा अन्य देशों के भी खिलाड़ी हिस्सा लेते हैं। टीमें सिर्फ भारत की होती हैं, जो कि अलग-अलग राज्यों को रिप्रजेंट करती हैं।


आईपीएल का इतिहास (History of IPL in Hindi)

IPL की नींव Board of Control For Cricket in India (BCCI) द्वारा रखी गई। 13 सितंबर 2007 को BCCI ने IPL की घोषणा की और इसके साथ ही यह भी सामने आया कि यह 20 ओवर का टूर्नामेंट होगा।

पहली बोली कब लगी
IPL की पहली बोली 24 January 2008 को लगी। इस बोली के बाद बैंगलोर, चेन्नई, दिल्ली, हैदराबाद, जयपुर, कोलकाता, मोहाली और मुंबई ये टीमें निकलकर सामने आईं।


पहला सीजन कब और किसने जीता
आईपीएल का पहला सीजन 2008 में हुआ। इस सीजन को राजस्थान रॉयल्स की टीम ने जीता। चेन्नई सुपरकिंग फाइनल में हार गया था।


कब हुआ विस्तार और कब लगा झटका
21 मार्च 2010 को दो नई टीमें इस टूर्नामेंट का हिस्सा बनीं। पुणे और कोच्चि। हालांकि एक साल बाद कोच्चि को टर्मिनेट कर दिया गया। वहीं 2013 में वित्तीय समस्या के कारण पुणे ने अपना नाम वापस ले लिया। 14 जून 2015 को मैच फिक्सिंग के आरोप में चेन्नई सुपरकिंग और राजस्थान रायल्स को सस्पेंड कर दिया गया। बाद में हुई नीलामी में इनकी जगह दो टीमों ने हिस्सा लिया। इसमें से एक था गुजरात लायन्स और दूसरा था Rising Pune Supergiant था।

सबसे अधिक बार टूर्नामेंट किसने जीता है
आईपीएल में सबसे सफल टीम मुंबई इंडियंस है। अभी तक उसने 5 बार यह खिताब अपने नाम किया है।

धोनी की टीम कितनी बार जीती है
कैप्टन कूल कहे जाने वाले महेंद्र सिंह धोनी की टीम चेन्नई सुपरकिंग्स 4 बार खिताब अपने नाम कर पाई है।

IPL में नीलामी की प्रक्रिया (Auction Process)
• आईपीएल में हर साल नीलामी होती है. इस नीलामी में हर फ्रेंचाइजी टीम के मालिक शामिल होते हैं और अपने पसंदीदा प्लेयर को खरीदते हैं।
• हर प्लेयर का एक बेस प्राइज होता है। इस बेस प्राइज के ऊपर की बोली लगती है। जो फ्रेंचाइजी अधिक बोली लगाता है खिलाड़ी उसके खाते में चला जाता है।
• हर फ्रेंचाइजी के पास अपने 3 प्लेयर्स को रिटेन करने का विकल्प होता है। फ्रेंचाइजी के पास ‘राइट टू मैच’ के इस्तेमाल की भी छूट होती है।

रिटेन कैसे करते हैं
कोई भी टीम मालिक अपने किसी पसंदीदा तीन खिलाड़ियों को नीलामी से पहले अपनी टीम में बनाए रख सकते हैं। इन खिलाड़ियों को फिर नीलामी में शामिल नहीं किया जाता है। आपको यह भी बता दें कि खिलाड़ियों को रिटेन करने के लिए मालिकों को अच्छी खासी रकम भी देनी पड़ती है। अगर तीन खिलाड़ी को रिटेन करेंगे तो पहले खिलाड़ी को 15 करोड़ रुपये, दूसरे खिलाड़ी को 11 करोड़ और तीसरे को 7 करोड़ देने पड़ते हैं।

राइट टू मैच क्या है
दोस्तों यह भी एक दिलचस्प चीज है। आइए इसके बारे में जानते हैं। दरअसल, यह किसी भी टीम मालिक के पास एक अधिकार होता है कि अगर वह अपनी टीम के किसी बिके हुए खिलाड़ी को वापस पाना चाहे तो इस कार्ड का इस्तेमाल कर सकता है। उदाहरण के लिए अगर किसी टीम का कोई खिलाड़ी नीलामी में दूसरे टीम द्वारा खरीद लिया गया है लेकिन वह टीम अपने उस खिलाड़ी को वापस पाना चाहती है तो फिर वह इस कार्ड के जरिए वापस पा सकती है। ऐसे में उसे उतना ही पैसा देना होगा जितना पैसा देकर दूसरी टीम खरीदी है। एक नियम यह भी है कि अगर टीम अपने तीन खिलाड़ियों को रिटेन करती है तो फिर वह सिर्फ दो बार इस कार्ड का यूज कर सकती है।

ऑरेंज और पर्पल कैप के बारे में जानिए
आईपीएल के दौरान सबसे अधिक रन बनाने वाले खिलाड़ी को ऑरेंज कैप जबकि सबसे अधिक विकेट लेने वाले गेंदबाज को पर्पल कैप देने का प्रावधान है।

अब तक के विजेता

वर्ष विजेता
2008 राजस्थान रायल्स
2009 डेक्कन चार्जर्स
2010 चेन्नई सुपरकिंग्स
2011 चेन्नई सुपरकिंग्स
2012 कोलकाता नाइट राइडर्स
2013 मुंबई इंडियन्स
2014 कोलकाता नाइट राइडर्स
2015 मुंबई इंडियन्स
2016 सनराइजर्स हैदराबाद
2017 मुंबई इंडियन्स
2018 चेन्नई सुपरकिंग्स
2019 मुंबई इंडियन्स
2020 मुंबई इंडियन्स
2021 चेन्नई सुपरकिंग्स


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.