What is SEO in hindi? SEO कैसे करे? 5 important

जैसा कि हम सभी जानते है कि SEO का Full Form (Search Engine Optimization) होता है, मगर सवाल ये उठता है कि SEO kya hai (What is seo)? हालाँकि ये सवाल हर वेबसाइट के मालिक या ब्लॉगर के लिए बहुत महत्वपूर्ण है, और अगर कोई भी वेबसाइट से पैसा कमाना चाहता है तो उसे ये सवाल परेशान करेगी ही, मतलब इतना समझ लीजिये कि वेबसाइट बनाना आसान है मगर उससे पैसा कमाने के लिए SEO को समझना 100 % ज़रूरी है, वरना आपका वेबसाइट न फेमस होगा और न ही ज़्यादा लोग देख पाएंगे।

आज आपको SEO क्या है वो डिटेल्स में समझाऊंगा और अपने वेबसाइट पर SEO कैसे करे वो सब समझाऊंगा। क्यू कि मैंने आप लोगो के लिए ही काफी मेहनत से ये आर्टिकल तैयार किया है ताकि हमारे पाठको को एक जगह पर ही SEO से संबंधित पूरी जानकारी मिल जाये और उन्हें उनका जवाब मिल जाये, इस आर्टिकल्स में मैं अपने वेबसाइट पर SEO कैसे किया उसका अनुभव भी आपसे शेयर करेंगे मैं कौन सा plugin का इस्तेमाल करता हु वो सब बताऊंगा। तो चलिए शुरू करते है।

What is SEO in Hindi ? (SEO kya hai)

SEO एक ऐसा तकनीक है जो हमारे वेबसाइट को Organic तरीके से सर्च इंजन में टॉप पर लाने के लिए किया जाता है। गूगल, याहू, बिंग सर्च इंजन होते है। जैसे आप को कुछ भी सर्च करना होता है तो गूगल पर टाइप करते है, तो लाखो करोड़ो रिजल्ट आते है मगर 90% लोग टॉप 10 रिजल्ट को ही देखते है। सरल भाषा में SEO का मतलब सर्च इंजन पर वेबसाइट की रैंक बढ़ाने को बोला जाता है।

SEO में उपयोग होने वाले कुछ Terms

Search Engine: ये एक ऐसा program और वेबसाइट है जो हमारे डाले गए Search Keyword के अनुसार हमे पूरे इंटरनेट पर से रिजल्ट खोज कर देता है। Google, Bing, Yahoo ये सर्च इंजन वेबसाइट है।

SERP (Search Engine Result Page)

हम Search Engine पर कुछ भी सर्च करते है तो हमे जो लिस्ट ऑफ़ रिजल्ट मिलता है उसे SEARCH ENGINE RESULT PAGE कहते है। जिसमे 2 तरह के रिजल्ट होते है पहला InOrganic Search Result और दूसरा Organic Search Result.

InOrganic Search Result

जब हम कुछ भी सर्च करते है तो Search Engine Result Page में हमारे Keyword से संबंधित कुछ एड्स (Ad) आते है जिन्हे InOrganic Search Result कहते है। यह सर्च रिजल्ट पेज में सबसे ऊपर में दीखता है, यानी अगर हमे भी अपने वेबसाइट को InOrganic Search Result पेज में दिखाना हो तो हमे Google AdWords को पैसा देकर एड्स बनाना पड़ेगा। यानी ये Free नहीं है.

Organic Search Result:

Organic Search Result फ्री होता है और इसके लिए ही हम SEO करते है ताकि हमारी वेबसाइट फ्री में सर्च रिजल्ट पेज में टॉप पर रैंक कर सके.

what is seo kya hai hindi
what is seo in hindi (seo kya hai)

SEO वेबसाइट के लिए क्यू ज़रूरी है?

जब हम या आप कोई वेबसाइट बनाते है तो उसका पहला मक़सद होता है की हमारी वेबसाइट ज़्यादा से ज़्यादा लोगो तक पहुंचे, तभी तो हमारे वेबसाइट पर ट्रैफिक आएगा और वेबसाइट की ब्रांडिंग होगी, अगर वेबसाइट पर कोई भी यूजर नहीं आएगा तो वेबसाइट बनाने का फिर क्या मतलब रह जाता है?

मगर डिजिटल मार्केटिंग के इस ज़माने में अब हर कोई ऑनलाइन बिज़नेस करने के लिए वेबसाइट का इस्तेमाल करता है ऐसे में कम्पटीशन ज़्यादा होने की वजह से सर्च इंजन जैसे गूगल पर यूजर कुछ भी सर्च करता है तो उसके सामने लाखो करोड़ो रिजल्ट Search Engine Result Page में आते है. ऐसे में यूजर सिर्फ पहले पेज पर के ही रिजल्ट को देखना ज़्यादा पसंद करता है, ऐसे में टॉप रिजल्ट में आये हुए वेबसाइट पर ट्रैफिक आने लगता है और उसकी ब्रांडिंग भी शुरू होने लगती है, और जब ब्रांडिंग हो जाती है तो यूजर बिना सर्च किये भी वेबसाइट पर जाना शुरू कर देता है, तो वेबसाइट को इसी टॉप रिजल्ट में आने के लिए हमे SEO करना बहुत ही ज़रूरी होता है।

SEO के बाद वेबसाइट रैंक करने में कितना समय लेता है?

SEO करने से पहले आपको एक चीज़ हमेशा याद रखना होगा की SEO करने के तुरंत बाद ही हमारा वेबसाइट रैंक करना शुरू नहीं करता है, इसके लिए हमे धैर्य के साथ इंतज़ार करना पड़ता है, अगर आप सही से SEO करते है तो आपकी वेबसाइट कभी ६ महीना में तो कभी एक साल के अंदर रैंक करने लगता है. तो सब्र का फल मीठा होता है, इस लिए परेशान होने की बजाये आप अपना ध्यान अपने काम पर और वेबसाइट पर दे तो ज़्यादा बेहतर होगा.

Types of SEO in Hindi (SEO के प्रकार)

दरअसल SEO एक प्रोसेस है, जिसको हम आसानी से समझने के लिए अलग अलग Types में बांटते है। जो निचे दिए गए है।

  • Technical SEO
  • On-Page SEO
  • Off-Page SEO
  • Mobile SEO

1. Technical SEO kya hai

Technical SEO में हम ये देखते है की Search Engine Crawlers वेबसाइट को सही तरीके से crawl और index कर रही है या नहीं।

Technical SEO कैसे करे?

  • Search Engine हमारे वेबसाइट को सही से access कर पा रहा है कि नहीं इसके लिए हम robots.txt फाइल को सही से optimize करेंगे.
  • अपने वेबसाइट को Google Search Console में Add और Verify करेंगे. अगर आप ये नहीं करते हो तो आपकी वेबसाइट कभी भी गूगल सर्च इंजन में नहीं आएगी.
  • Google Search Console हमेशा चेक करते रहे और उसमे Coverage पर हमेशा जाए और error चेक करते रहे अगर कोई errorआता है तो वो error fix करे.
  • XML Sitemap बनाये और उसे हर Search Engine जैसे Google, Yahoo, Bing पर Submit कर दे. अगर आप वर्डप्रेस में कोई भी SEO प्लगइन use कर रहे हो तो ज़्यादातर प्लगइन खुद से XML Sitemap generate कर के सबमिट कर देता है.
  • Website Structure अपने website के structure और URL के structure को optimize कीजिये. यानी वेबसाइट कि Navigation को आसान बनाइये ताकि कोई भी Users या Google को एक पेज से दूसरे पेज पर विजिट करने में आसानी हो और URL को छोटा और मीनिंगफुल रखने कि कोशिश कीजिये.
  • SEO Friendly Theme वेबसाइट को SEO फ्रेंडली डिज़ाइन कीजिये. वर्डप्रेस में SEO फ्रेंडली Theme को ही Use कीजिये, मैंने अपने वेबसाइट में Wp Ocean के थीम का इस्तेमाल किया है. यहां क्लिक कर के बहुत से SEO फ्रेंडली थीम के बारे में देखे
  • Website Speed अपने वेबसाइट को ऐसा बनाइये कि वो मोबाइल और डेस्कटॉप दोनों पर फ़ास्ट लोड हो सके. और अच्छे SERVER पर host कीजिये जहाँ वेबसाइट कि स्पीड तेज़ हो, गूगल सर्वे के अनुसार जो वेबसाइट 3 से 5 सेकंड के अंदर में लोड होता है वो अच्छी वेबसाइट मानी जाती है, इसके लिए आप बहुत सारे कैशिंग प्लगइन का भी use कर सकते है जैसे कि WP Rocket, W3 Total Cache, WP Super Cache. मैंने अपने वेबसाइट में W3 Total Cache का इस्तेमाल किया है.

वेबसाइट स्पीड टिप्स:- अच्छे Theme का चयन कीजिये, कम से कम प्लगइन और अच्छे प्लगिन्स का ही इस्तेमाल करे, इमेज का साइज बहुत कम रखे, WP Rocket, W3 Total Cache, WP Super Cache जैसे कैशिंग प्लगइन का इस्तेमाल करे.

2. On-Page SEO kya hai

On-Page Seo के अंतर्गत हम वेबसाइट के पेज पर SEO करते है, अपने पेज में Content को अच्छे से लिखना. कंटेंट में quality होनी चाहिए. जो Search Engine पर सबसे ज़्यादा खोजे जाते है वैसे Keywords का अपने कंटेंट में इस्तेमाल करना. Keywords का इस्तेमाल page में सही जगह करना जैसे Title, Meta Description, Content में keyword का इस्तेमाल करना इससे Google को जानने में आसानी होती है की आपका content किसके ऊपर लिखा गया है और जल्दी आपके website को Google page पर rank करने में मदद करता है जिससे आपके website की traffic बढती है.

SEO ki दुनिया में एक कहावत है Content is King

On-Page SEO कैसे करे?

On-Page SEO in hindi के लिए हम आपको को कुछ स्टेप्स बताएंगे जिसके मदद से आप अपने वेबसाइट में आसानी से SEO कर सकेंगे

1) Title Tag

टाइटल टैग SEO के लिए बहुत ही ज़्यादा महत्वपूर्ण है, क्यू कि Search Result Page पर जो दीखता है वो यही टाइटल दीखता है, इसलिए टाइटल हमेशा मीनिंगफुल और इंटरस्टिंग रखना चाहिए ताकि visitors आसानी से उसपर click कर सके. टाइटल ऐसा लिखे कि visitors और Google को आपके कंटेंट का Clue मिल सके यानी उसे ये पता चल सके कि जो चीज़ सर्च किया जा रहा उसका कंटेंट इस पेज में है. टाइटल बनाते वक़्त ध्यान रखना है कि आपका टाइटल 65 शब्दों के अंदर ही होनी चाहिए क्यू कि गूगल उससे ज़्यादा शब्दों को नहीं दिखता है

2) Heading Tag

SEO का एक बहुत महत्वपूर्ण नियम ये है कि वेबसाइट के हर पेज में 1 ही (न कम न ज़्यादा) H1 टैग रखना है. तो ज़्यादातर वेबसाइट में पेज का टाइटल H1 tag ही होता है. आपके ब्लॉग पेज पर हैडिंग का ख़ासा ख्याल रखा जाता है, इससे SEO पर अच्छा ख़ासा इम्पैक्ट परता है, H1 टैग के बाद आपको Sub Heading (H1, H2) का इस्तेमाल कंटेंट के सेक्शन को बांटने के लिए करना चाहिए , क्यू कि इससे कंटेंट कि Readability अच्छी होती है और Users को आपका कंटेंट आसानी से समझ आ जाएगा, और Google Crawlers को भी रीड करने में आसानी होती है.

3) Content

कंटेंट ही राजा है, क्यू कि सारा चीज़ कंटेंट के लिए ही होता है, इसलिए टॉपिक के हिसाब से कंटेंट को अच्छे से Explain करे, और कोशिश करे कि कंटेंट को अच्छे से organize करे और 800 शब्दों से ज़्यादा में एक्सप्लेन करे और सर्च इंजन क्रॉवेर्स को भी ये लगेगा कि कंटेंट में दम है. और कंटेंट हमेशा अपना ही रखे दूसरे कि कॉपी न करे, इससे आपके वेबसाइट पर ग़लत इम्प्रैशन होता है

4) Image Alt Tag

अपने पोस्ट में Images का इस्तेमाल ज़रूर से करे और उसके Alt Tag में Focus Keyword ही डाले. इमेज का नाम में भी Keyword डाले. Alt Tag कभी खाली न रखे. इमेज से आपके वेबसाइट पर ट्रैफिक आने कि चान्सेस बढ़ जाती है. और इमेज हमेशा कम साइज का ही लगाए. नहीं तो साइट कि स्पीड घाट जाएगी.

5) Internal Link

ये SEO में एक प्लस पॉइंट है, आप अपने पेज में उस कटेंट से रिलेटेड अपने ही वेबसाइट की दूसरी आर्टिकल की लिंक डाले. इससे आपकी Internal Link वाली पेज भी रैंक करनी शुरू हो जाएगी, ये ध्यान रखे कि लिंक हमेशा रिलेटेड ही डाले इससे अच्छा इम्पैक्ट पड़ेगा.

6) Focus Keywords

ये बहुत ज़रूरी होता है कि आप जो content लिखते हो उससे रिलेटेड Keyword कि रिसर्च कर ले, बहुत से Keyword Research Tool इंटरनेट पर available है, कुछ फ्री है तो कुछ paid है वैसे गूगल का अपना भी Google Research Tool है जिसकी मदद से आप Keyword दाल के चेक कर सकते है कि इस कीवर्ड पर हर महीने कितने लोग सर्च करते है, और उस कीवर्ड में कम्पटीशन High है या Low, आप कोशिश करे कि Low कम्पटीशन वाला ही कीवर्ड को अपना Focus Keyword बनाये और अपने कंटेंट में use करे.

7) Keyword Density

Keyword Density से ये पता चलता है कि आपका Focus Keyword आपके पूरे कंटेंट में कितनी बार उपयोग किया गया है. ये SEO में काफी महत्व रखता है.

8) Keyword Stuffing

अगर कोई Focus Keyword आपके कंटेंट में ज़रूरत से ज़्यादा इस्तेमाल किया गया है तो वो Keyword Stuffing कहलाता है. जो कि Negative SEO होता है, ये आपके वेबसाइट के लिए सही नहीं है. इससे आपको रैंकिंग में नुकसान होगा. कीवर्ड डेंसिटी 1 के अंदर में ही रखे. सभी SEO प्लगइन automatically आपको Keyword Density कैलकुलेट कर के दिखता है तो कोशिश करे कि Keyword Density .50 से 1 के बीच में रखे.

Types of Keyword

Keyword दो तरह के होते है एक Short Keyword और दूसरा Long Tail Keyword आप दोनो भी कीवर्ड use कर के चेक कर सकते है, इसके लिए आप SEO प्लगइन में फोकस कीवर्ड में अपना कीवर्ड डालेंगे. मैंने अपने वेबसाइट के लिए Rank Math SEO प्लगइन का इस्तेमाल किया है.

अपना Focus Keyword टाइटल में डाले और Sub Headings, Meta Description में और पोस्ट के पहले Paragraph में भी डाले.

7) Meta Description

जब आप कुछ सर्च करते हो तो SERP (Search Engine Result Page) में जो रिजल्ट आता है उसमे हमे दो चीज़ दिखता है पहला Page Meta Title और दूसरा Page Meta Description. ये भी SEO में बहुत महत्वपूर्ण होता है, Meta Description आप 160 शब्दों के अंदर में बनाना है. इसके अंदर अपनी Focus Keyword ज़रूर से डाले, और ऐसे शब्द डाले जो हमारे कंटेंट का hints हो .. ताकि users आपके पेज पर क्लिक करके आपके वेबसाइट पर आये

what is seo in hindi
what is seo in hindi (seo kya hai)

3. Off-Page Seo kya hai

Off-Page SEO में आपको वेबसाइट के अंदर कुछ नहीं करना होता है, बल्कि आपको बस अपने वेबसाइट को इंटरनेट पर प्रमोट करते रहना होता है. जैसे अपने ब्लॉग का लिंक दूसरे पॉपुलर वेबसाइट के कमेंट में डालना, सोशल मीडिया पर शेयर करना इसे हम Backlink भी कहते है. जो वेबसाइट जितना पॉपुलर होगा उसकी रैंकिंग Search Engine पर उतनी ज़्यादा बढ़ेगी. यानी कुल मिला के आपको दूसरे पॉपुलर वेबसाइट से users को आपके वेबसाइट पर लाना है.

Off-Page Seo कैसे करे?

Off-Page SEO के कुछ महत्वपूर्ण तरीके जो आपको करना चाहिए.

1. Search Engine Submission: अपनी वेबसाइट को सभी सर्च इंजन में जाके सबमिट करना चाहिए

2. Social Media: अपने वेबसाइट के नाम का सोशल मीडिया जैसे फेसबुक, ट्विटर, लिंकेडीन, इंस्टाग्राम पर पेज या प्रोफाइल बनाये और उस पेज पर अपनी पोस्ट शेयर करते रहे, इससे वेबसाइट का ब्रांडिंग होता है जो SEO में बहुत उपयोगी होता है.

3. Add link on Q & A Site: सवाल जवाब वाली वेबसाइट जैसे Quora, stackoverflow.com .कॉम इत्यादि पर आप सवालो के थोड़ा जवाब दे और अपनी साइट कि लिंक लगा दे, या खुद से सवाल बनाये और जवाब दे और अपना लिंक लगा दे.

4. Blog Commenting: आप अपने ब्लॉग से संबंधित ब्लॉग ढूंढे और उनके वेबसाइट पर कमेंट में अपनी ब्लॉग के लिंक दाल दे.

5. Guest Posting: बहुत सारे Guest Blogging वेबसाइट भी है, जैसे Medium.Com, Google Blogspot, वहाँ जा के आप कुछ लिखे और अपनी वेबसाइट के लिंक दाल दे.

4. Mobile Seo in Hindi

ये एक फैक्ट है कि अब 60% से भी ज़्यादा सर्च मोबाइल डिवाइस पर होता है, इसीलिए सर्च इंजन भी मोबाइल सर्च को ज़्यादा वैल्यू देना शुरू कर दिया है. इसीलिए हमे अपने website को मोबाइल फ्रेंडली भी बनाना चाहिए.

Mobile SEO कैसे करे?

  • सबसे पहले आपका वेबसाइट मोबाइल फ्रेंडली है या नहीं इसके लिए आपको Google Mobile Friendly Test पर अपना लिंक डाल के टेस्ट करना है.
  • अपने वेबसाइट पर ज़्यादा एड्स नहीं लगाए.

Organic और Inorganic Results क्या होते है?

जब हम कुछ भी Search करते है तो, SERP (Search Engine Results Page) पर मुख्य रूप से 2 तरह कि रिजल्ट दिखाई जाती है. पहला Organic और दूसरा Inorganic रिजल्ट.
Inorganic Result के लिए हमे गूगल को पैसा देना परता है तभी वो टॉप लिस्ट में दिखता है.
वहीँ Organic Result पूरी तरह से Free होता है यानी कि हमे Search Engine के टॉप पेज पर आने के लिए अपने वेबसाइट पर SEO करना होता है. जो कि आप इस आर्टिकल में जान ही चुके है कि what is seo in hindi.

पाठको को धन्यवाद

हम अपने पाठको से आशा करते है कि आपको हमारा ये पोस्ट What is SEO in Hindi पसंद आया होगा और आपको आपके प्रश्न का उत्तर भी मिल गया होगा। अगर फिर भी आपके मन में कुछ सवाल रह जाता है तो आप हमे कमेंट में पूछ सकते है या kyahotahai@outlook.com पर ईमेल कर सवाल पूछ सकते है। हम हमेशा आपके सवालो का जवाब देने के लिए तैयार रहते है। हम हमेशा से हर चीज़ को सरल भाषा और अपने मात्र भाषा हिंदी में समझने कि कोशिश करते रहे है। Tags: Seo Kya hai, What is seo, seo in hindi

Leave a Reply